Shriram Quotes in Hindi

·        इस संसार में प्यार करने लायक़ दो वस्तुएँ हैं-एक दुख और दूसरा श्रम। दुख के बिना हृदय निर्मल नहीं होता और श्रम के बिना मनुष्यत्व का विकास नहीं होता। – आचार्य श्रीराम शर्मा

·        संपदा को जोड़-जोड़ कर रखने वाले को भला क्या पता कि दान में कितनी मिठास है। – आचार्य श्रीराम शर्मा
·        जीवन में दो ही व्यक्ति असफल होते हैं- एक वे जो सोचते हैं पर करते नहीं, दूसरे जो करते हैं पर सोचते नहीं। – आचार्य श्रीराम शर्मा
·        मानसिक बीमारियों से बचने का एक ही उपाय है कि हृदय को घृणा से और मन को भय व चिन्ता से मुक्त रखा जाय। – आचार्य श्रीराम शर्मा
·        मनुष्य कुछ और नहीं, भटका हुआ देवता है। – आचार्य श्रीराम शर्मा
·        असफलता यह बताती है कि सफलता का प्रयत्न पूरे मन से नहीं किया गया। श्रीराम शर्मा आचार्य
·        शारीरिक ग़ुलामी से बौद्धिक ग़ुलामी अधिक भयंकर है। श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        ग्रन्थ, पन्थ हो अथवा व्यक्ति, नहीं किसी की अंधी भक्ति। श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        जैसी जनता, वैसा राजा। प्रजातन्त्र का यही तकाजा॥ श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        केवल वे ही असंभव कार्य को कर सकते हैं जो अदृष्य को भी देख लेते हैं। श्रीराम शर्मा आचार्य
·        नहीं संगठित सज्जन लोग। रहे इसी से संकट भोग॥ श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        मनुष्य की वास्तविक पूँजी धन नहीं, विचार हैं। श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        प्रज्ञा-युग के चार आधार होंगे – समझदारी, इमानदारी, ज़िम्मेदारी और बहादुरी। श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        मनःस्थिति बदले, तब परिस्थिति बदले। – पं श्रीराम शर्मा आचार्य
·        रचनात्मक कार्यों से देश समर्थ बनेगा। श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        संसार का सबसे बडा दिवालिया वह है जिसने उत्साह खो दिया। श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        समाज के हित में अपना हित है। श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        सुख में गर्व न करें, दुःख में धैर्य न छोड़ें। – पं श्री राम शर्मा आचार्य
·        उसी धर्म का अब उत्थान, जिसका सहयोगी विज्ञान॥ श्रीराम शर्मा, आचार्य
·        बड़प्पन अमीरी में नहीं, ईमानदारी और सज्जनता में सन्निहित है। श्रीराम शर्मा आचार्य
·        जो बच्चों को सिखाते हैं, उन पर बड़े खुद अमल करें तो यह संसार स्वर्ग बन जाय। श्रीराम शर्मा आचार्य
·        विनय अपयश का नाश करता हैं, पराक्रम अनर्थ को दूर करता है, क्षमा सदा ही क्रोध का नाश करती है और सदाचार कुलक्षण का अंत करता है। श्रीराम शर्मा आचार्य
·        जब तक व्‍यक्ति असत्‍य को ही सत्‍य समझता रहता है, तब तक उसके मन में सत्‍य को जानने की जिज्ञासा उत्‍पन्‍न नहीं होती है। – पं. श्रीराम शर्मा
·        अवसर तो सभी को जिन्‍दगी में मिलते हैं, किंतु उनका सही वक्‍त पर सही तरीके से इस्‍तेमाल कुछ ही कर पाते हैं। – श्रीराम शर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top